छत्तीसगढ़ के बारे में

This page is about Chhattisgarh.
Home About us Contact
Nature

छत्तीसगढ़ के बारे में

Title description About Chhattisgarh

जनसंख्या की दृष्टि से छत्तीसगढ़ भारत का 16 वाँ राज्य है । 2011 की जनसंख्या के आंकड़ो के अनुसार राज्य की जनसंख्या 2, 55, 45,198 । यह जनसंख्या भारत की की कुल आबादी का 2.11 प्रतिशत है। 2011 में जब जनगणना हुई थी तो उस वक्त 18 जिले थे। और वर्तमान में छत्तीसगढ़ में 28 जिले हैं । रायपुर जिला सर्वाधिक जनसंख्या वाला है । तो नारायणपुर सर्वाधिक कम जनसंख्या वाला है। रायपुर की जनसंख्या 40,63,872 है तो नारायणपुर में यह संख्या 1,39,820 है।
भारतीय वन प्रतिवेदन 2017 के अनुसार पूरे प्रदेश में 59,772 वर्ग किमी तक वन क्षेत्र फैला हुआ है। जिसमें 55,547 वर्ग किमी भाग पर वन है । छत्तीसगढ़ में प्रषासनिक आधार पर वनों को तीन भागों में बांटा गया है, इसके अलावा भी छत्तीसगढ़ से जुड़ी सम-सामयिक घटनाओं के बारे में जानने के लिए छत्तीसगढ़ सम-सामयिक पर क्लिक कीजिए। वर्ष 2020 में दिए स्थापना वर्ष में दिए गए पुरस्कारों के बारे में जानने के लिए पुरस्कार पर क्लिक कीजिए!

छत्तीसगढ़ से जुड़ी सामान्य वस्तुनिष्ठ प्रश्न के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

Objective Questions


Nagarnar

नगरनार स्टील प्लांट

Title description, नगरनार स्टील प्लांट

जिला मुख्यालय जगदलपुर से 18 किमी दूर जगदलपुर उड़िसा मार्ग पर नगरनार स्टील प्लांट की स्थापना की जा रही है इस दिषा में कोक आवन बैटरी की हिटींग की प्रकिया भी आरम्भ हो चुकी है। यह प्लांट अगर तैयार हो जाता है।तो तीन मिलिअन टन सालाना उत्पादन होगा हालांकि इसमें अभी देर है। इसके बाद ब्लाॅस्ट फर्नेंस की कमीषनिंग की जाएगी। इसकी कुल लागत बीस हजार करोड़ रूपये से अधिक है। इस प्लांट के लिए 211 हेक्टेअर जमीन अधीकृत की गई है और यह जमीन छत्तीसगढ़ सरकार के पास है जिसमें सिर्फ 27 हैक्टअर जमीन को एनएम डीसी को के पास है । जानकारी के लिए यह जानना आवष्यक है कि NMDC जो भारत सरकार की उत्खनन इकाई है उसे नगरनार स्टील प्लांट का के उत्पादन कार्य का जिम्मा सौंपा गया है

छत्तीसगढ़ से जुड़ी सामान्य वस्तुनिष्ठ प्रश्न के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

वस्तुनिष्ठ प्रश्न .

Norway

छत्तीसगढ़ के बारे में

Title description, May 25, 2020

Chhattisgarh के जलप्रपात के चार जल प्रवाह के अंतर्गत आने वाली नदियों पर बनते हैं। जब जल की विशालकाय बहाव ऊँचाई से नीचे गिरती है इसे जलप्रपात कहते हैं। प्रदेश में मौजूद जलप्रपातों का आनन्द सितम्बर से मई के बीच लिया जा सकता है । बस्तर में मौजूद चित्रकोट और तीरथगढ़ जलप्रतात की ख्याति देश भर में है। चित्रकोट जलप्रपात को मिनी नियाग्रा की संज्ञा दी गई है। छत्तीसगढ़ के जलप्रपात के इन्ही चार जल प्रवाह के अंतर्गत आने वाली नदियों पर बनते हैं। जब जल की विशालकाय बहाव ऊँचाई से नीचे गिरती है इसे जलप्रपात कहते हैं। प्रदेश में मौजूद जलप्रपातों का आनन्द सितम्बर से मई के बीच लिया जा सकता है । बस्तर में मौजूद चित्रकोट और तीरथगढ़ जलप्रतात की ख्याति देश भर में है। चित्रकोट जलप्रपात को मिनी नियाग्रा की संज्ञा दी गई है। प्रदेश के प्रमुख जलप्रपातों निम्न लिखित प्रपात आते है।

Norway

छत्तीसगढ़ के बारे में

Title description, April 7, 2014

दियारी दीपावली के दूसरे दिन मनाया जाता है । इसमें बैलों को खिचड़ी खिलाकर पूजा अर्चना की जाती है। बस्तर में माड़िया जनजाति के लोग इसे मनाते हैं । इस अवसर पर वे विधिवत फसलों की पूजा की जाती है। माटी तिहार दीपावली के बाद बस्तर में पृथ्वी की पूजा की जाती है। बस्तर में यह त्यौहार प्रमुख रूप से मनाया जाता है। दीपावली के बाद मनाए जाने वाले त्यौहारों की लम्बी फेहरिस्त है जैसे राउत लोगों द्वारा मनाया जाने वाला मातर त्यौहार जिसमें वे पारंपरिक वेशभूषा में लाठियाँ लेकर नृत्य करते हैं लकड़ी से बने कुल देवता यानि खोडहर देव की पूजा की जाती है। बीज बोहनी यह त्यौहार कोरबा जनजाति का महत्वपूर्ण पर्व है। लोग कृषि के दौरान इस पर्व को काफी उत्साह से मनाते है। करसाड़ पर्व इस पर्व में अबूझमाड़ के नवयुवक-नवयुवतियां अपने जीवनसाथी का चुनाव करते हैं। इस पर्व में गाए जाने वाले गीत को ककसार कहते हैं । आमा तिहार छत्तीसगढ़ में गोंड जनजाति के लोग यह त्यौहार मनाते हैं। आम के फल लगने पर यह त्यौहार मनाया जाता है। बस्तर का दशहरा भी खास होता है यह पूरे 75 दिनों तक मनाया जाता है। जानिए कैसे मनाया जाता है। बस्तर दशहरा

छत्तीसगढ़ से जुड़ी सामान्य वस्तुनिष्ठ प्रश्न के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

वस्तुनिष्ठ प्रश्न .

Smart Watch


Months-wise Current Affairs


हमारे बारे में

siyan shouts एक प्रयास है छत्तीसगढ़ राज्य की समृद्धशाली धरोहर के बारे में विस्तार से जानकारी देने का। 2001 में छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना हुई है तब से लेकर आज तक छत्तीसगढ़ की परंपरा एवं सांस्कृतिक धरोहर के बारे में लोगों की कौतूहलता बढ़ी है। इसका दूसरा उद्देश्य यह भी है कि इस साईट के माध्यम से हम विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं के संदर्भ पूछी गई जानकारियों को आपसे बांटना चाहते है जिसे हमने एक लेख या आर्टिकल के रूप में दिया है।
हमें उम्मीद है कि हमारी कोशिश आपके लिए मददगार साबित होगी। अपने सुझाव आप हमें अवश्य लिखें । आपके दिए गए सुझावों का स्वागत है।


स्थल

छत्तीसगढ़ में पर्यटन की दृष्टि से कई क्षेत्र हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते है। इन्हें निम्नलिखित श्रेणियों में बांटा जा सकता है। एतिहासिक और धर्मिक स्थल,प्राकृतिक स्थल, प्रमुख गुफाएं छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित चंपारण्य को चंपाझर भी कहते है। यह रायपुर से 60 किमी की दूरी पर है। आरंग से होते हुए यहाँ पहुँचा जा सकता है । तथा महासमुंद से यह 30 किमी दूर है। यहाँ लिंक पर क्लिक कीजिए!


इसे भी देखिए.

Objective Questions, खेलकूद योजनाएँ पुरस्कार त्यौहार सम्मान इतिहास सामान्य परिचय सामान्य ज्ञान


Please click the important links to get the information about Chhattisgarh State.
Indus Valley Civilization,

Photos Gallery